Monday, 11 March 2019

#

Love शायरी


बदलना नहीं आता हमें मौसम की तरह,
हर एक रूप मैं तेरा इंतज़ार करता हूँ |.. 
ना तुम समझ सको कयामत तक,
कसम तुम्हारी तुम्हे इतना प्यार करते है। . 


                              ~दिनेश प्रजापति 

No comments:

Post a Comment

hindijokesjunction